रिसर्च भी मानती हैं कि सर्दियों में अधिक झड़ते हैं बाल, जानिए हेयर फॉल रोकने के 5 टिप्स

सर्दियों में बाल अधिक झड़ने लगते हैं। आइये जानते हैं कि किन वजहों से इन दिनों बाल अधिक झड़ते हैं! बालों का झड़ना रोकने के लिए कौन-कौन से उपाय किये जा सकते हैं?
सर्दियों में वातावरण शुष्क होता है।इससे स्किन ड्राई और परतदार हो जाती है। इसके कारण बाल अधिक झड़ने लगते हैं। चित्र : शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Published on: 7 December 2022, 14:24 pm IST
ऐप खोलें

जाड़े में हम कंघी करने से डरते हैं। हम सोचते हैं कि कंघी करने पर टूटे हुए बालों का गुच्छा कंघी में उलझा हुआ दिखाई देगा। पर इससे समस्या हल नहीं हो जाएगी। हमें सबसे पहले यह देखना और समझना होगा कि जाड़े के दिनों में ही बाल अधिक क्यों झड़ते(why hair fall more in winter) हैं! फिर हमें बालों को झड़ने से रोकने के लिए उपाय (how to stop seasonal hair fall) करना होगा।

क्या कहती है रिसर्च(Research on Hair Fall) 

ब्रिटिश जर्नल ऑफ़ डर्माटोल में वर्ष 1991 में जाड़े में बालों के अधिक झड़ने के कारण पर शोध किया गया। डर्मेटोलोजिस्ट और शोधकर्ता वी ए रान्डेल और एफ जे एबलिंग ने यूके में 18-39 आयु वर्ग के 14 लोगों पर 18 महीनों के लिए हर 28 दिनों में बालों के विकास के विभिन्न पैरामीटर को निर्धारित किया। शोधकर्ताओं ने पाया कि स्कैल्प में ऐनाजेन में हेयर फॉलिकल का अनुपात मार्च में 90% से अधिक था, जो सितंबर में धीरे-धीरे कम होता चला गया। अगस्त से सितंबर के बीच बालों का झड़ना सबसे अधिक हो गया। गर्मी की अपेक्षा सर्दियों में दोगुने से अधिक बाल झड़े।

यहां हैं सर्दियों में बाल झड़ने के कारण(Hair Fall in Winter season) 

ब्रिटिश जर्नल ऑफ़ डर्माटोल की स्टडी के अनुसार, सर्दियों में वातावरण शुष्क होता है। इसका प्रभाव हमारी स्किन और स्कैल्प पर पड़ता है। इससे स्किन ड्राई और परतदार हो जाती है। इसके कारण बाल अधिक झड़ने लगते हैं।
वहीं दूसरी ओर जाड़े के दिनों में बालों के स्ट्रैंड्स में हाइड्रोजन बॉन्डिंग कमजोर हो जाते हैं। इसके कारण सर्दियों में बाल रूखे और बेजान होकर टूटने-झड़ने लगते हैं।

बदलते मौसम में बालों के झड़ने से छुटकारा पाने (how to stop seasonal hair fall) के लिए जानें 5 उपाय

1 पोषक तत्वों से भरपूर भोजन खाएं और खूब पानी पीयें (nutritious diet and Hydration)

डर्मेटोलोजी प्रैक्टिकल एंड कांसेप्टुअल जर्नल में प्रकाशित शोध आलेख के अनुसार विटामिन ए, विटामिन ई और सेलेनिययम की कमी से हेयर फॉल बढ़ जाते हैं। जाड़े के दिनों में हम पोषक तत्वों से भरपूर भोजन की बजाय तला- भुना अधिक खाते हैं। इनकी बजाय हरी पत्तेदार सब्जियां, बीट, बीन्स, अण्डों को अपने भोजन में शामिल करना चाहिए। जाड़े के दिनों में हम पानी भी कम पीते हैं। इसलिए डीहायड्रेशन की वजह से बाल झड़ने लगते हैं। बाल को झड़ने से रोकने के लिए हमें पानी भी लगातार पीते रहना चाहिए।

2 बालों की नियमित तेल मालिश (Hair Oil Massage)

आयुर्वेद के अनुसार, शरीर के साथ-साथ बालों की भी मसाज जरूरी है। जाड़े के दिनों में स्कैल्प की मसाज नारियल तेल या सरसों तेल या फिर तिल के तेल से जरूर करना चाहिए।

जाड़े में बालों के झड़ने की समस्या को कम करने के लिए नियमित बालों पर तेल लगायें। चित्र: शटरस्‍टॉक

आयुर्वेदिक एक्सपर्ट अंशुल इस बात पर जोड़ देती हैं कि नहाने से 1-2 घंटे पहले शरीर के साथ-साथ स्कैल्प और बालों की भी मसाज करनी चाहिए।

3 बालों के प्रकार के आधार पर हेयर प्रोडक्ट का प्रयोग करें (Hair Products)

हमेशा बालों के प्रकार के आधार पर हेयर प्रोडक्ट का इस्तेमाल करना चाहिए। डर्मालोजिका इंडिया की एजुकेशन हेड हिना खान के अनुसार यदि स्कैल्प ऑयली हैं, तो उसके अनुसार हेयर प्रोडक्ट बालों पर लगायें। वहीं यदि स्कैल्प ड्राई है, तो उसके अनुसार हेयर प्रोडक्ट बालों पर लगायें।

4 गुनगुना पानी बालों पर डालें (Lukewarm water for hair)

जाड़े के दिनों में हम गर्म पानी शरीर और सिर दोनों पर डाल लेते हैं। गर्म पानी दोनों की स्किन को नुकसान पहुंचा देता है। ब्रिटिश जर्नल ऑफ़ डर्माटोल के शोध आलेख के अनुसार, गर्म पानी से स्कैल्प ड्राई और फ्लेकी हो जाते हैं।

बालों को टूटने-झड़ने से बचाने के लिए बालों पर गर्म पानी नहीं, बल्कि गुनगुना पानी डालें ।चित्र शटरस्टॉक।

इससे रूसी की भी समस्या हो जाती है, जिससे बाल अधिक झड़ने लगते हैं। जाड़े के दिनों में बालों को टूटने-झड़ने से बचाने के लिए हमेशा गुनगुना पानी बालों पर डालें।

5 बालों के झड़ने का पता लगायें

यदि इन सभी उपायों से बालों का झड़ना नहीं रूकता है, तो बालों के झड़ने का सही कारण पता लगायें। किसी अच्छे हेयर एक्सपर्ट से मिलें। कई बार समस्या का पता चल जाने पर निदान करना आसान हो जाता है।

यह भी पढ़ें :- सर्दियों में सबसे ज्यादा प्रभावित होती है टीन एज स्किन, जानिए कुछ खास स्किन केयर टिप्स

लेखक के बारे में
स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

Next Story