Skin toner : ऑयली स्किन से होने वाली समस्याओं से छुटकारा दिला सकते हैं ये 4 DIY स्किन टोनर

स्किन टोनर से स्किन साफ़ होती है और ऑयली स्किन की समस्या दूर होती है। कई नेचुरल टोनर भी हैं, जो बिना साइड इफेक्ट के स्किन की सफाई कर स्किन टोन करते हैं।
toner skin ka ph balance karta hai
आपको एक ऐसा लाइफस्टाइल अपनाना चाहिए जो आपको तनावमुक्त रख सके। चित्र : अडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Published: 2 Aug 2023, 03:33 pm IST
  • 125

कई तरह के ब्यूटी प्रोडक्ट स्किनकेयर के लिए जरूरी होते हैं। खासकर नेचुरल सामग्री से तैयार प्रोडक्ट स्किन की विशेष देखभाल करते हैं। स्किन टोनर स्किन को साफ़ कर पोर्स में फंसी गंदगी, मैल और अन्य अशुद्धियों को हटा देता है। इसे दैनिक स्किन केयर रूटीन में शामिल किया जा सकता है। जब इसे नियमित रूप से उपयोग किया जाता है, तो यह एजिंग, रिंकल साहिल ऑयली स्किन की कई समस्याओं को दूर कर देता है। कौन सा स्किन टोनर ऑयली स्किन के लिए बढ़िया है? यह जानने से पहले टोनर स्किन के लिए क्यों जरूरी है, जानते हैं।

टोनर स्किन के लिए क्यों जरूरी है (Skin Toner)

डर्मेटोलॉजिस्ट और एमडी डॉ. कशिश कालरा बताते हैं,’ आपकी स्किन कैसी है, इसके आधार पर टोनर का इस्तेमाल करना चाहिए। यदि आपकी त्वचा ऑयली है, तो टोनर चेहरे पर तेल की मात्रा को कम करने में मदद कर सकता है। सफाई के बाद चेहरे पर टोनर लगाने के लिए कॉटन पैड का उपयोग करने से यह पता चल पाता है कि कितनी अतिरिक्त गंदगी और जमी हुई मैल हटा दी गई है। यदि स्किन ड्राई है, तो टोनर मॉइस्चराइजर की तरह स्किन में गहराई तक प्रवेश कर त्वचा में नमी वापस लाने में मदद कर सकता है।’

हयालूरोनिक एसिड या ग्लाइकोलिक एसिड वाला टोनर

कुछ टोनर जैसे कि हयालूरोनिक एसिड या ग्लाइकोलिक एसिड वाला टोनर स्किन को अधिक लाभ पहुंचा सकते हैं। अपनी स्किन के प्रकार पर ही इसका चुनाव करें। यदि स्किन पर पिम्पल्स हैं या स्किन बहुत संवेदनशील है, तो टोनर का उपयोग नहीं किया जा सकता। टोनर बिना जलन पैदा किए गहराई से सफाई करने में मदद कर सकते हैं।

किस तरह करें इसका प्रयोग (How to use skin toner)

हमेशा कॉटन पैड की सहायता से इसका प्रयोग करें। प्रतिदिन एक बार टोनर का उपयोग किया जा सकता है। यदि स्किन तैलीय है या मेकअप करना है, तो इसे दिन में दो बार लगाया जा सकता है। हर दिन या दिन में दो बार से अधिक टोनर का उपयोग नहीं करना चाहिए। अधिक उपयोग करने पर यह स्किन से नेचुरल ऑयल खत्म कर सकता है।

स्किन का पीएच बैलेंस रखता है टोनर (skin toner for PH Balance)  

टोनर स्किन को पोषक तत्व प्रदान करता है। पीएच को संतुलित करता है। स्किन टोन करता है। हाइड्रेशन बढ़ाता है। यह स्किन पोर की गहराई से सफाई करता है। यह डेड स्किन सेल और जमी हुई मैल को बाहर निकालने में मदद करता है।

toner skin ko swasth rakhta hai
स्किन टोनर स्किन का पीएच बैलेंस रखता है । चित्र : अडोबी स्टॉक

ये 4 तरह के प्राकृतिक टोनर (Natural Toner for Skin) ऑयली स्किन से होने वाली समस्याओं से छुटकारा दिलाएंगे

1 स्किन को साफ़ करता है नींबू टोनर (Lemon toner for skin problem)

नींबू झुर्रियों और उम्र बढ़ने के लक्षणों से लड़ता है। यह छिद्रों के आकार को भी कम करता है। इससे स्किन साफ़, चिकनी और ताज़ा दिखती है। इसकी अम्लीय सामग्री के कारण नींबू के रस में एस्ट्रिनजेंट गुण होते हैं। यह सूजन और अतिरिक्त सीबम उत्पादन को कम कर सकता है, जिससे पिम्पल्स हो सकते हैं।

2 सूजन कम करता है कुकुम्बर (cucumber toner for skin inflammation)

यह त्वचा को चमकदार बनाता है और सूजन को कम करता है। खीरे के टोनर का इस्तेमाल मेकअप हटाने के लिए भी किया जाता है। यह चेहरे के अत्यधिक तेल को नियंत्रित करते हैं और हाइड्रेशन देते हैं। यह स्किन पोर से टोक्सिंस को साफ करता है और उन्हें कसने में मदद करता है

3 सनबर्न दूर करता है एलोवेरा (Aloe Vera toner for sunburn)

इसका स्किन पर शांत प्रभाव पड़ता है। इसका त्वचा पर गहरा हाइड्रेटिंग प्रभाव होता है। इसके एंटी बैक्टीरियल गुण मुंहासों को दूर रखते हैं। कुल मिलाकर यह त्वचा को तरोताजा रखते हैं

Aloe vera gel
एलोवेरा  का त्वचा पर गहरा हाइड्रेटिंग प्रभाव होता है। चित्र- अडोबा स्टॉक

4 ग्रीन टी टोनर (Green tea toner for skin)

ग्रीन टी टोनर त्वचा द्वारा उत्पादित सीबम को नियंत्रित करता है। यह स्किन को आयल फ्री बनाये रखता है। ग्रीन टी के एंटी बैक्टीरियल और एंटी इन्फ्लामेट्री गुण सूजन को कम करते हैं। ये मुंहासों को कंट्रोल करते हैं, जिससे साफ, बेदाग त्वचा मिलती है।

यह भी पढ़ें :- ऑयली स्किन और पिंपल से डील करना हैं तो ट्राई करें पुदीने के ये 2 फेस मास्क

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 125
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।...और पढ़ें

अगला लेख