एक्ने से ज्यादा परेशान कर सकते हैं ब्लैक एक्ने, जानिए कारण और बचाव के उपाय

पिंपल्स किसी को नहीं पसंद क्योंकि यह चेहरे की रंगत को भी प्रभावित करते हैं। साथ ही, कभी-कभी, मुंहासे दूर होने के बाद भी दाग छोड़ जाते हैं। ऐसे में जानिए क्या है ब्लैक एक्ने और इससे बचने के उपाय।

pcos acne
पीसीओएस में भी मुंहासे हो सकते हैं। चित्र : शटरस्टॉक
  • 120

त्वचा की समस्याओं से छुटकारा पाना बहुत मुश्किल होता है। कभी – कभी ये मेडिकल ट्रीटमेंट के बाद भी वापस आ जाती हैं या कभी जाने का नाम नहीं लेती। ऐसी ही त्वचा संबंधी समस्याओं में से एक है एक्ने। ये जिद्दी एक्ने कभी भी पिंपल के रूप में बिन बुलाए दस्तक दे देते हैं और जाने का नाम नहीं लेते।

जब भी आपको कोई पिंपल होता है, तो आप चाहते हैं कि यह जल्दी से ठीक हो जाए। मगर कभी-कभी, मुंहासे दूर होने के बाद भी दाग छोड़ जाते हैं। इन्हें ब्लैक एक्ने कहा जाता है, क्योंकि ज़्यादातर एक्ने देखने में लाल रंग के होते हैं। मगर, ब्लैक एक्ने का रंग थोड़ा गहरा होता है और ठीक होने के बाद ये ब्लैक स्पॉट्स छोड़ जाते हैं।

त्वचा पर इन काले धब्बों से छुटकारा पाने की शुरुआत यह समझने से होती है कि आखिर ये क्यों होते हैं

जब आपकी त्वचा पर पिंपल निकल आते हैं, तो यह सूजन का एक रूप है। और ब्लैक एक्ने के केस में ये धीरे – धीरे ये सतह मेलेनिन की वजह से काली पड़ने लगती है। मेलेनिन वह पिगमेंट है जो आपकी त्वचा को उसका रंग देता है, और जब कुछ कोशिकाओं में दूसरों की तुलना में अधिक मेलेनिन होता है, तो ब्लैक पिंपल का कारण बनते हैं। जिन लोगों की त्वचा का रंग प्राकृतिक रूप से गहरा होता है, उन्हें इस स्थिति का खतरा अधिक होता है।

ब्लैक पिंपल्स के बाद के काले धब्बों का इलाज कैसे करें और भविष्य में उनसे कैसे बचें, इसके बारे में अधिक जानने के लिए पढ़ते रहें।

विटामिन सी

नींबू का रस विटामिन सी से भरपूर होता है, जो त्वचा और यहां तक ​​कि त्वचा की रंगत को भी निखार सकता है। विटामिन सी को एक प्रभावी डिपिगमेंटिंग एजेंट के रूप में दिखाया गया है जो मेलेनिन को कम करता है।

एलोवेरा

एलोवेरा स्किन पिगमेंट को हल्का करने में मदद करता है। यह नैचुरल है और आसानी से उपलब्ध भी हो जाता है। इसलिए अपने दाग – धब्बों को हल्का करने के लिए एलोवेरा का इस्तेमाल करें।

Skin ke liye aloevera hai faydemand
त्वचा के लिए ऐलो वेरा है फायदेमंद। चित्र:शटरस्टॉक

सन प्रोटेक्शन

हर दिन कम से कम 30 के एसपीएफ़ के साथ सनस्क्रीन लगाना चाहिए। यदि आप एक अच्छी एसपीएफ़ क्रीम या जेल का उपयोग नहीं करते हैं तो काले धब्बों को हटाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। इसलिए हमेशा सनस्क्रीन लगाएं चाहे आप घर के अंदर हों या बाहर।

सैलिसिलिक एसिड

यह घटक सबसे प्रसिद्ध एंटी एक्ने एजेंट में से एक है और यह पिंपल के बाद काले धब्बे के लिए भी काम करता है। सैलिसिलिक एसिड एक एक्सफोलिएटिंग एजेंट है जो मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया को हटा देगा।

यह भी पढ़ें : Strawberry legs : पैरों पर दिखने वाले इन अजीब धब्बों से छुटकारा दिला सकते हैं ये 3 DIY स्क्रब

  • 120
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
nextstory