जानिए बरसात के मौसम में क्यों निकल आते हैं चेहरे पर अलग-अलग तरह के दाने, क्या हो सकता है इनका उपचार

बम्प्स त्वचा के अंदर निकले हैं। हालांकि, हर किसी के केस में यह अलग-अलग तरीके से फील होते हैं। यह केवल आपके चेहरे पर ही नहीं हाथ, पीठ, पेट के आसपास भी दिखाई दे सकते हैं।
face bumps ke upay
यहां जानें फेस बम्प्स से बचाव के उपाय। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 25 Jul 2023, 01:47 pm IST
  • 135

बारिश के मौसम में या बहुत गर्मी होने पर कई बार त्वचा पर छोटे-छोटे बम्प्स (Face bumps) निकल आते हैं। कई बार ये इतने दर्दनाक हो जाते हैं कि कोई चीज जरा सा भी इनसे टच हो जाने पर दर्द होने लगता है। ऐसा लगता है ये बम्प्स त्वचा के अंदर निकले हैं। हालांकि, हर किसी के केस में यह अलग-अलग तरीके से फील होते हैं। यह केवल आपके चेहरे पर ही नहीं हाथ, पीठ, पेट के आसपास भी दिखाई दे सकते हैं। आखिर इन बम्प्स के निकलने की क्या वजह है? वहीं इनसे निजात पाने के लिए हम क्या कर सकते हैं? चिंता न करें आज हेल्थ शॉट्स के साथ जानेंगे इस विषय से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें।

हेल्थ शॉट्स ने इस विषय पर मारेंगो एशिया हॉस्पिटल, गुरुग्राम के वरिष्ठ सलाहकार, त्वचाविज्ञान डॉ. अनिल कुमार अग्रवाल, से बात की। उन्होंने फेस बम्प्स से डील करने को लेकर कुछ जरुरी टिप्स दिए हैं। तो आइये जानते हैं इनसे कैसे बचना है।

बरसात में त्वचा पर हो सकते हैं अलग-अलग तरह के बम्प्स (types of face bumps)

1. एक्ने बम्प्स : चेहरे पर बंद रोमछिद्रों या तैलीय त्वचा के कारण मुहांसे हो सकते हैं। उनकी पहचान छोटे लाल उभारों से होती है जो बाद में पपड़ी बनाने लग जाते हैं।

2. छोटे-छोटे उभरे हुए तिल : तिल किसी पुरानी त्वचा स्थिति के कारण उभर सकते हैं और यह पिगमेंटेशन से जुड़े होते हैं।

3. त्वचा पर उभरे हुए मस्से: आमतौर पर इनका रंग गहरा भूरा या काला होता है और यह पपड़ीदार नजर आता है।

white pimples
स्किन इशूज़ से परेशान होने पर फेशियल ऑयल से करें परहेज, चित्र: शटरस्टॉक

4. मिलिया जैसे सफेद स्किन बम्प्स : ये चेहरे पर छोटे सफेद दाने होते हैं जो केराटिन से भरे होते हैं। बच्चों में पसीने की ग्रंथियों का अत्यधिक विकास मिलिया का प्रमुख कारण है।

5. कॉमेडोन : ये चेहरे पर एक्ने बम्प्स की तरह दिखाई देते हैं और आमतौर पर यह समस्या संक्रमण के कारण होती है।

6. सिस्ट : चेहरे पर त्वचा के नीचे छोटे-छोटे बम्प्स सिस्ट के गठन का कारण बन सकते हैं। इन्हें नज़रअंदाज न करें क्योंकि इस त्वचा वृद्धि की उपस्थिति सीधे तौर पर किसी बड़ी स्वास्थ्य समस्या से जुड़ी हो सकती है।

7. रैशेज : चेहरे पर चकत्ते और शेविंग बम्प्स होना भी आम हैं और यह ज्यादातर कटने के कारण होते हैं।

8. अन्य समस्याएं : मेलेनोमा, केराटोसिस पिलारिस, रेशेदार पपल्स, नेवी आदि जैसी त्वचा संबंधी स्थितियां स्किन बम्प्स का कारण बन सकती हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

यहां जानें फेस बम्प्स से बचाव का तरीका

1. प्रॉपर क्लींजिंग है जरुरी

त्वचा पर बम्प्स नजर आने का एक सामान्य कारण है धूल और गंदगी के कारण बंद हुए पोर्स। ऐसे में इसे अवॉयड करने के लिए डॉक्टर चेहरे को सौम्य क्लींजर से साफ़ करने की सलाह देते हैं। इससे अतिरिक्त तेल, पसीना और अन्य गंदगी त्वचा से पूरी तरह से बाहर निकल आती है।

अगर आपकी त्वचा में जलन या सूजन है तो सावधान रहें। ऐसे क्लीन्ज़र का उपयोग करना सबसे अच्छा है जो आपकी विशिष्ट स्थिति के लिए तैयार किया गया हो।

यह भी पढ़ें : Hibiscus Benefits : ब्लड शुगर कंट्रोल करने से लेकर हेयर ग्रोथ तक, आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है गुड़हल

2. नियमित रूप से मॉइस्चराइज़ करें

अपने चेहरे को साफ करने के बाद किसी सौम्य क्रीम या लोशन से त्वचा को मॉइस्चराइज़ करें। आपका मॉइस्चराइजर आयल फ्री और गैर-कॉमेडोजेनिक होना चाहिए, जिसका अर्थ है कि यह आपके स्किन पोर्स को बंद नहीं करेगा।

moisturize skin
आपकी त्वचा लंबे समय तक स्वस्थ रहती है। चित्र : एडॉबीस्टॉक

मॉइस्चराइजिंग जलन के कारण होने वाले बम्प्स को कम करने में मदद कर सकता है। यह स्किन हाइड्रेशन बनाए रखता है और ड्राइनेस को कम करता है जिससे आपकी त्वचा लंबे समय तक स्वस्थ रहती है।

3. लेजर थेरेपी

लेजर थेरिपी की स्थिति में त्वचा विशेषज्ञ द्वारा त्वचा की ऊपरी परत को पिक्सेल लेजर के संपर्क में लाया जाता है। यह स्वस्थ कोशिकाओं को बरकरार रखते हुए सावधानीपूर्वक क्षतिग्रस्त टिश्यू को खत्म करने में मदद करती हैं। यह शरीर में कोलेजन का उत्पादन करने के लिए एक प्राकृतिक प्रतिक्रिया को प्रेरित करता है, जो बिना किसी प्रकार के दाग धब्बो को छोड़े त्वचा के साथ घाव को भर देते हैं। डॉक्टर के अनुसार यदि आपको सिस्ट है तो इसे लेजर थेरेपी से हटाना सबसे अच्छा विकल्प है।

4. केमिकल पीलिंग

केमिकल पील विभिन्न प्रकार की त्वचा संबंधित समस्याओं जैसे बम्प्स, दाग-धब्बे, धूप से होने वाली क्षति, पिंपल्स आदि के लिए सबसे आम तौर पर चुने गए उपचारों में से एक है। एक समाधान तैयार करने के लिए यूएस एफडीए-अनुमोदित रासायनिक अवयवों (जैसे अल्फा हाइड्रॉक्सिल एसिड) का उपयोग किया जाता है, इन्हे त्वचा विशेषज्ञ द्वारा चेहरे पर अप्लाई किया जाता है। यह त्वचा की ऊपरी परत को पील करता है, विभिन्न अनियमितताओं का इलाज करता है और हेल्दी टिश्यू को बढ़ावा देता है।

5. टॉपिकल मेडिसिन्स

त्वचा पर नजर आने वाले छोटे बम्प्स के लिए यह सबसे सरल उपचार हो सकता है। इसके लिए आपको पहले अपनी स्थिति के अनुसार त्वचा विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए। अधिकांश सामयिक दवाओं में सैलिसिलिक एसिड या बेंज़ोयल पेरोक्साइड मौजूद होता है जो त्वचा को संक्रमण फैलाने वाले कीटाणुओं से प्रोटेक्ट करता है।

janiye ghr pr kaise bnaye body lotion
घर पर ऐसे तैयार करें बॉडी लोशन।चित्र: शटरस्‍टॉक

6. ओरल मेडिसिन्स

त्वचा विशेषज्ञ से सलाह ले आप ओरल मेडिसिन्स भी ले सकती हैं। फेस बम्प्स की स्थिति में आपको एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल दवाएं दी जाती हैं जो संक्रमण को फैलने या अधिक गंभीर होने से नियंत्रित करती हैं।

ध्यान रहे

बरसात के मौसम में होने वाली किसी भी समस्या को हल्के में न लें। अमूमन छोटी-मोटी समस्याएं घरेलू नुस्खों के इस्तेमाल से ठीक हो जाती हैं। पर किसी भी तरह की दवा का इस्तेमाल विशेषज्ञ परामर्श के बिना न करें।

यह भी पढ़ें : बाल लगातार पतते होते जा रहे हैं, तो जानिए कैसे रोकनी है हेयर थिनिंग की समस्या

  • 135
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख