कहीं आपका डिटर्जेंट बेस्ड शैंपू ही तो नहीं कर रहा आपके बालों को डैमेज? जानिए सही शैंपू चुनने का तरीका

Updated on: 3 February 2022, 10:26 am IST

हेयर केयर का बुनियादी प्रोडक्ट है एक शैंपू। लेकिन आपके फेवरिट शैंपू में हो सकता है डिटर्जेंट और अन्य हानिकारक केमिकल। इसलिए जानिए सही शैंपू के चुनाव का तरीका।

Detergent based shampoo hair fsall ka kaaran hai
डिटर्जन्ट बेस्ड शैम्पू बन सकता है झड़ते बालों का कारण। चित्र:शटरस्टॉक

हम सभी के हेयर केयर रुटीन में एक शैंपू का इस्तेमाल शामिल है। पर कहीं यही शैंपू आपके रूखे, बेजान और झड़ते बालों का कारण तो नहीं? परेशान हो गईं न? हां, क्योंकि बाजार में मौजूद ज्यादातर शैंपू डिटर्जेंट बेस्ड होते हैं। यानी उनके निर्माण में ऐसे रसायनों का इस्तेमाल किया गया है, जो आपके बालों के लिए खतरनाक हो सकते हैं।

असल में आपके शैम्पू में आपके और पर्यावरण दोनों के लिए हानिकारक तत्व हो सकते हैं? जानना चाहती हैं क्याा हैं आपके बालों को नुकसान पहुंचाने वाले ये खतरनाक कैमिकल? और क्या है सही शैंपू चुनने का तरीका? तो बस इसे अंत तक पढ़ती रहें।

कैसे चैक करें अपना शैंपू?

क्या आपने कभी अपनी शैंपू के बॉटल पर छोटे-छोटे शब्दों में लिखी जानकारियां पढ़ी हैं? नहीं, तो अभी अपना शैंपू चैक कीजिए, क्या इसके तल में डिटर्जेंट बेस्ड लिखा है? अगर हां तो यही है वह अपराधी जो अब तक आपके बालो को नुकसान पहुंचा रहा था। आप हैरान होंगी कि बाज़ार में मौजूद ज्यादातर शैंपू डिटर्जेंट बेस्ड हैं, जो आपके बालों की नेचुरल शाइन और मजबूती छीन रहे हैं। इनकी मुख्य सामग्री है सल्फेट्स। लेकिन वास्तव में सल्फेट्स क्या हैं, और आपको किन अन्य हानिकारक शैम्पू इंग्रेडिएंट से बचना चाहिए?

Apne shampoo mein sulphate check kare
अपने शैम्पू में सल्फ़ेट चेक करें। चित्र: शटरस्‍टॉक

क्या होता है सल्फेट?

सल्फेट्स बहुत मजबूत डिटर्जेंट होते हैं, जो एक रासायनिक प्रतिक्रिया के माध्यम से काम करते हैं। इसमें वे आपके सिर पर सीबम और पानी की मदद से चिपक जाते हैं। जब आप शैम्पू को धोते हैं, तो सल्फेट सभी तेल और अवशेष अपने साथ ले जाता है। लेकिन सफाई करते समय, वे बालों को नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। उन्हें बेजान और फ्रिज़ी बना सकते हैं।

सोडियम लॉरिल सल्फेट (SLS) एक झाग पैदा करता है, जिसे कुछ लोग पसंद करते हैं। लेकिन इसे स्कैल्प पर छोड़े जाने पर हेयर फॉलिकल से समझौता करना पड़ सकता है। मानव शरीर पर इसका अन्य विषाक्त प्रभाव पड़ता है। खासकर रंगे हुए बालों या अन्य हेयर ट्रीटमेंट वाले लोगों को निश्चित रूप से SLS से बचना चाहिए। यह आपके रंग को फीका कर सकता है और प्राकृतिक तेलों को छीन सकता है।

शैंपू चुनते समय रसायनों से बनशैंपू चुनते समय इन हानिकारक रसायनों से बचना भी है जरूरी

1. पैराबेन (Paraben)

पैराबेन को हानिकारक भी माना जाता है। कॉस्मेटिक्स और शैंपू में बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकने के लिए इनका इस्तेमाल प्रिजर्वेटिव के रूप में किया जाता है। पैराबेन हार्मोन एस्ट्रोजन की नकल कर सकते हैं और स्तन कैंसर कोशिकाओं के बढ़ते विकास से जुड़े हुए हैं।

2. सोडियम क्लोराइड (Sodium Chloride)

यह नमक का दूसरा नाम है। शैम्पू और कंडीशनर में सोडियम क्लोराइड का उपयोग मुख्य रूप से कंसिस्टेंसी को गाढ़ा बनाने के लिए होता है। नमक पहले से ही सेंसिटिव स्कैल्प को ड्राई और खुजलीदार बना सकता है। यह अंततः बालों के झड़ने का कारण बन सकता है।

3. अल्कोहल (Alcohol)

अधिकांश अल्कोहल का सुखाने वाला प्रभाव होता है। सेटेराइल अल्कोहल और स्टीयरिल अल्कोहल आपके बालों के लिए कुछ हद तक ठीक है। वे वास्तव में आपके बालों में नमी बनाए रखने में मदद कर सकते हैं।

यदि आपके बाल पहले से ही सूखे हैं तो “प्रोप” नाम वाले अल्कोहल से बचें। उदाहरण के लिए, आइसोप्रोपिल अल्कोहल या प्रोपेनॉल।

4. सिंथेटिक सुगंध (Synthetic Fragrance)

जिन उत्पादों के लेबल पर “फ्रेगरेंस” होती है उनमें हजारों छिपे हुए रसायन हो सकते हैं। सुगंधित कॉस्मेटिक उत्पादों में कुछ तत्व प्रजनन प्रणाली को बाधित कर सकते हैं और कैंसर या अस्थमा का कारण बन सकते हैं।

वे त्वचा और स्कैल्प को भी परेशान कर सकते हैं। यह बालों के झड़ने का कारण बन सकता है।

Chemical shampoo aapke baal ke liye harmful hai
केमिकल युक्त शैम्पू आपके बालों के लिए हानिकारक है। चित्र:शटरस्टॉक

सही शैंपू चुनने के लिए इन बातों का विशेष ध्यान रखें

1. ऑयली स्कैल्प के लिए शैंपू (Shampoo for oily scalp)

यदि आपका स्कैल्प ऑयली या चिकना हो जाता है, तो संभवतः आप दर्जनों शैंपू का इस्तेमाल कर चुके हैं। आपने रोजाना, यहां तक ​​कि दिन में दो बार बाल धोने से लेकर शैंपू के बीच के दिनों को अतिरिक्त तेल और सीबम उत्पादन को नियंत्रित करने की कोशिश की होगी। ऑयली स्कैल्प के लिए शैम्पू चुनते समय क्या देखना चाहिए और किन बातों से बचना चाहिए, यहां बताया गया है:

ऐसे शैंपू से बचें जो हाइड्रेटिंग, मॉइस्चराइजिंग, स्मूदिंग या घुंघराले बालों के लिए अच्छे हों। ये आपके पहले से ऑयली स्कैल्प में बहुत अधिक नमी जोड़ते हैं।

उन लेबलों की तलाश करें जिनमें वॉल्यूमाइज़िंग, सुदृढ़ीकरण या संतुलन का उल्लेख है। ये उत्पाद नॉन-मॉइस्चराइजिंग हैं और अतिरिक्त तेल को हटाने में अधिक प्रभावी हैं।

सुपर-ऑयली स्कैल्प की स्थिति के लिए क्लेरिफाइंग शैम्पू एक बड़ी मदद हो सकता है। लेकिन सावधान रहें कि उत्पाद का अधिक उपयोग न करें और अपने स्कैल्प को सुखाएं।

डबल शैम्पू ट्राई करें। डबल-क्लींजिंग के समान, एक डबल शैम्पू में अलग-अलग ज़रूरतों को लक्षित करने के लिए आपके बालों को दो अलग-अलग शैंपू से धोना होता है। अपने ऑयली स्कैल्प को धोने के लिए एक शैंपू का उपयोग करें। इसके बाद अपनी जड़ों के नीचे धोने के लिए एक अलग शैंपू अपनाएं।

स्कैल्प से तेल को हटाने के लिए शैम्पू को ज्यादा देर तक रहने दें। फिर उसे अच्छी तरह से धो लें।

शैम्पू करने के बाद, अपने कंडीशनर को अपने स्कैल्प पर लगाने से बचें। इसके बजाय, अपने बालों के मध्य-शाफ्ट और सिरों पर ध्यान केंद्रित करें। अच्छे से धोएं।

Apne scalp ke anusar shampoo chune
अपने स्कैल्प के अनुसार शैम्पू चुनें। चित्र: शटरस्‍टॉक

2. ड्राई स्कैल्प के लिए शैंपू (Shampoo for dry scalp)

जब आपका स्कैल्प सूखा, खुजलीदार या परतदार होता है, तो सही शैम्पू चुनना असुविधाजनक हो सकता है। इसलिए एक ऐसा शैम्पू चुनना आवश्यक है जो आपके सूखे स्कैल्प की समस्या को और न बढ़ाए। उसके लिए इन को आजमाएं:

शैंपू को मजबूत बनाने, फोर्टिफाई करने और उसकी मात्रा बढ़ाने से बचें। ये उत्पाद आपके सिर की आवश्यक नमी को छीन सकते हैं।

हल्के ड्राई स्कैल्प के लिए, जिनमें बहुत कम या कोई खुजली नहीं होती है, ऐसे शैम्पू लेबल देखें जो नमी, हाइड्रेशन, स्मूथिंग या कर्ल को बढ़ावा देते हैं। ये उत्पाद नमी बनाए रखने को प्रोत्साहित करते हैं और आपके ड्राई स्कैल्प के लिए फायदेमंद हो सकते हैं।

ऐसे शैंपू से बचें जिनमें सल्फेट्स होते हैं। यह बालों और स्कैल्प के लिए बहुत शुष्क होते हैं।

यहां तक ​​​​कि जब आपका स्कैल्प ड्राई होता है, तो सर्वोत्तम परिणामों के लिए अपने बालों को ठीक से शैम्पू करना महत्वपूर्ण है।

तो लेडीज, अब शैंपू चुनते समय गलती न करें। एक छोटी गलती आपके बालों को दाव पर लगा सकती है।

यह भी पढ़ें: कुपोषण का संकेत हो सकता है बचपन में ही बालों का सफेद होना, इससे बचना है जरूरी

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें