स्किन को भी नुकसान पहुंचाता है पीसीओएस, यहां जानिए इससे होने वाले एक्ने का उपचार

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम सिर्फ पीरियड्स को ही पेनफुल नहीं बनाता, बल्कि ये आपकी स्किन को भी एक्ने जैसी जिद्दी समस्या से दे सकता है।

pcos acne
यहां हैं पीसीओएस में होने वाले एक्ने का कारण और उपचार। चित्र: शटरस्टॉक
अंजलि कुमारी Published on: 12 November 2022, 09:30 am IST
  • 140

इन दिनों काफी सारी महिलाएं पीसीओएस यानी कि पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic Ovary Syndrome) की समस्या की शिकार हो रही हैं। वहीं इसके कारण महिलाएं एक्ने की समस्या से काफी ज्यादा परेशान हो जाती हैं। पीसीओएस एक प्रकार की हार्मोनल समस्या है। इस दौरान कई हॉर्मोन्स असंतुलित हो जाते हैं, जिस वजह से पीसीओएस एक्ने का सामना करना पड़ता है। वहीं पीसीओएस एक ऐसी समस्या है जो प्यूबर्टी के बाद किसी भी उम्र की लड़की एवं महिला को अपनी चपेट में ले सकता है। और इसके कारण होने वाले एक्ने आमतौर पर होने वाले एक्ने की समस्या से काफी ज्यादा दर्दनाक और जिद्दी होते हैं। आइए जानते हैं इनका कारण और उपचार (pcos acne treatment)।

वहीं इस दौरान इन्हें नियंत्रित कर पाना मुश्किल हो जाता है और इस वजह से महिलाएं काफी ज्यादा चिंतित रहती हैं।

इसपर हमने एक्सपर्ट की राय ली और जाना कि आखिर यह समस्या क्या है, और इससे किस तरह निजात पाया जा सकता है। इस दौरान उन्होंने चिंता न करने की सलाह देते हुए इससे छुटकारा पाने के कुछ जरूरी उपाय बताए हैं। तो चलिए जानते हैं उन टिप्स के बारे में विस्तार से।

मैत्री वुमन की संस्थापक, सीनियर कंसलटेंट गायनोकोलॉजिस्ट और ऑब्सटेट्रिशियन डॉक्टर अंजली कुमार पीसीओएस में होने वाले एक्ने से निजात पाने के कुछ प्रभावी तरीको पर बात कर रही हैं तो चलिए उनसे जानते है ऐसी स्थिति में कैसे रखना है अपनी त्वचा का ध्यान।

pcos
पीसीओएस एक्ने आमतौर पर एंड्रोजन संवेदनशील जगहों को अपना शिकार बनाती हैं। चित्र : शटरस्टॉक

आखिर पीसीओएस में क्यों होती है एक्ने की समस्या

पीसीएस की समस्या में एस्ट्रोजन, प्रोजेस्ट्रोन और टेस्टोस्टेरोन जैसे सभी हॉरमोन इंबैलेंस हो जाते हैं। इसी के साथ शरीर में एंड्रोजन की मात्रा बढ़ जाती है। वहीं शरीर में बढ़ते एंड्रोजन के कारण सीबेसियस ग्लैंड अधिक मात्रा में ऑयली सब्सटेंस का उत्पादन करती हैं। जिसे हम आमतौर पर सीबम कहते हैं। ऐसे में डेड स्किन सेल्स और सीबम एक साथ मिलकर ऐसे में हेयर फॉलिकल्स के अंदर बैक्टीरियल ग्रोथ को बढ़ा देते हैं, जिस वजह से एक्ने की समस्या देखने को मिलती हैं।

पीसीओएस एक्ने आमतौर पर एंड्रोजन संवेदनशील जगहों को अपना शिकार बनाती हैं। जैसे कि ठोड़ी, चेहरे के किनारे पर, शरीर के ऊपरी हिस्से और पीठ पर भी इसका प्रभाव देखने को मिलता है।

यहां है पीसीओएस एक्ने से छुटकारा पाने के 6 प्रभावी उपाय

1. त्वचा को अच्छी तरह साफ करें

अंजली कुमार के अनुसार पीसीओएस एक्ने से बचने के लिए गुनगुने पानी से दिन में कम से कम 2 बार त्वचा को अच्छी तरह साफ करें। वहीं 2 से अधिक बार फेस वॉश का प्रयोग आपके एक्ने को बढ़ा सकता है। इसके साथ ही स्क्रबिंग से पूरी तरह परहेज रखें। पीसीओएस एक्ने के दौरान ऑयल फ्री मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करें।

makeup products istemaal n karein
डॉक्टर कहती है कि यदि आप भी पीसीओएस से परेशान हैं, तो ऐसे में कम से कम मेकअप प्रोडक्ट का इस्तेमाल करें।

2. मेकअप प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल को सीमित रखें

डॉक्टर कहती है कि यदि आप भी पीसीओएस से परेशान हैं, तो ऐसे में कम से कम मेकअप प्रोडक्ट का इस्तेमाल करें। और यदि मेकअप का इस्तेमाल करना आपके लिए जरूरी है तो ऑयल फ्री प्रोडक्ट्स ही चुने। वहीं उन मेकअप प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें जो नॉन कॉमेडोजेनिक हों। क्योंकि यह एक्ने की समस्या को बढ़ने से रोकता है।

3. बालों पर इस्तेमाल किए जाने वाले प्रोडक्ट्स का भी खास ध्यान रखें

यदि आप पीसीओएस एक्ने से परेशान हैं, तो अंजलि कुमार के अनुसार आपको अपने बालों पर इस्तेमाल किए जाने वाले प्रोडक्ट का भी ध्यान रखना चाहिए। ऐसे में हेयर स्प्रे, अधिक मात्रा में हेयर ऑयल और जेल जैसे प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल से परहेज रखना चाहिए। यदि वालों में लंबे समय तक तेल लगाए रखती हैं, तो यह आपकी त्वचा को भी प्रभावित कर सकता है। इसलिए ऑयलिंग के कुछ समय बाद ही बालों में शैंपू कर लें और यदि आपके बाल काफी लंबे हैं, तो अपने चेहरे से इन्हें दूर रखें।

sun exposure
पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं में सूरज की किरणे बन सकती है एक्ने का कारण। चित्र शटरस्टॉक।

4. लंबे समय के लिए सूरज की किरणों के संपर्क में आने से बचें

पीसीओएस एक्ने को नियंत्रित रखने के लिए लंबे समय तक सूरज की किरणों के संपर्क में न रहें। डॉक्टर अंजली कुमार के अनुसार सुबह के 10:00 बजे से लेकर शाम के 4:00 बजे तक सूरज की किरणों के संपर्क में आने से बचें। और यदि आप संपर्क में आ रही हैं, तो शरीर को पूरी तरह ढक कर रखना जरूरी है। इसी के साथ चाहे आपको पिंपल्स हो या न हों, सूरज की किरणों के संपर्क में आने से 20 मिनट पहले सनस्क्रीन जरूर लगाएं। इसी के साथ नॉन कॉमेडोजेनिक सनस्क्रीन का ही इस्तेमाल करें।

5. एक संतुलित डाइट लेना है जरूरी

डॉक्टर अंजलि कुमार के अनुसार पीसीओएस एक्ने की समस्या से बचने के लिए प्लांट बेस्ट डाइट लेना जरूरी है। वहीं प्रोसेस्ड फूड जैसे कि पिज़्ज़ा, बर्गर, चिप्स, इत्यादि से पूरी तरह परहेज रखें। साथ ही वह कहती हैं कि ऐसे में प्राकृतिक रूप से अल्कलाइन, एंटी इन्फ्लेमेटरी फल, सब्जी, अनाज, दाल इत्यादि का सेवन करें।

Yoga-for-PCOS
अच्छा आहार और नियमित व्यायाम पीसीओएस को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है. चित्र : शटरस्टॉक

6. एक्सरसाइज भी है जरूरी

डॉक्टर के अनुसार यदि आप इस समस्या से बचना चाहती हैं, तो नियमित रूप से खुद को सक्रिय रखें। आप योग और व्यायाम जैसी गतिविधियों में भाग ले सकती हैं। यझ आपके इन्सुलिन रेजिस्टेंस को नियंत्रित रखते हुए शरीर में ब्लड शुगर लेवल को भी संतुलित रखता है। वहीं कोर्टिसोल हार्मोन को सामान्य रखते हुए पीसीओएस में एक्ने की समस्या को बढ़ने से रोकता है।

यह भी पढ़ें : World Pneumonia Day 2022 : निमोनिया के लक्षणों को कंट्रोल कर सकते हैं ये 7 घरेलू नुस्खे

  • 140
लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory