केमिकल वाले कलर से बेहतर हैं वीगन हेयर कलर, हम बता रहे हैं इसके कारण

केमिकल वाले हेयर कलर्स न सिर्फ आपके बालों को नुकसान पहुंचाते हैं, बल्कि बन सकते हैं ब्लड कैंसर की भी वजह। 

chemical free vegan colors se rakhen baalon ka dhyaan
केमिकल फ्री वीगन कलर्स से रखें बालों का ध्यान
शालिनी पाण्डेय Updated on: 23 May 2022, 20:22 pm IST
  • 120

आपके बाल आपकी पर्सनैलिटी का ज़रूरी हिस्सा हैं, इनका प्राकृतिक रंग इनकी ख़ूबसूरती में चार चांद लगा देता है। बालों के रंग को आपके व्यक्तित्व से मेल खाना ज़रूरी है। अपने व्यक्तित्व को निखारने के लिए यदि आप हेयर कलर का इस्तेमाल करना चाहती हैं, तो सही हेयर कलर चुनना बहुत जरूरी है। इसलिए हम आपको सलाह देंगे वीगन हेयर कलर (Vegan hair color) चुनने की। जानना चाहती हैं क्या हैं और ये कैसे आपके लिए फायदेमंद हैं? तो बस अंत तक पढ़ती रहें। 

सभी चाहते हैं कि आपके लंबे समय तक चलने वाले हेयरकलर मिलें। जिसके साइडइफेक्ट न हों। लेकिन कुछ दिनों के बाद, डार्क कलर, जैसे रेड और कॉपर कलर, फीके पड़ जाते हैं। क्योंकि केमिकल वाले कलर जल्दी ही अपनी रंगत खो देते हैं। इस बारे में बात करते हुए  अगर आप भी इस परेशानी से जूझ रही हैं तो वीगन या आयुर्वेदिक कलर चुनें।

क्यों आपके बालों के लिए अच्छे नहीं हैं केमिकल वाले डाई 

अधिकांश रासायनिक हेयर डाई कोलतार और पेट्रोकेमिकल्स के कम्पोजीशन के साथ बनाए जानते हैं। जो निश्चित तौर पर बालों को नुकसान पहुंचाते हैं. इन हेयर कलर्स में ये चीज़ें खास तौर पर पाई जाती है :

अमोनिया

हाइड्रोजन पेरोक्साइड

पैरा-फेनिलेनेडियम (पीपीडी)

1,2,4 ट्राइहाइड्रॉक्सी बेंजीन

chemical free hair color kaa istemaal hai zaroori
केमिकल फ्री हेयर कलर का इस्तेमाल है ज़रूरी

यहां है केमिकल वाले हेयर कलर के 3 स्वास्थ्य जोखिम 

1 कैंसर

रासायनिक हेयर डाई का उपयोग करने से लिम्फोमा, जो कि एक प्रकार का ब्लड कैंसर है होने की संभावना बढ़ सकती है। एनसीईबी के एक अध्ययन ने लिम्फोइड नियोप्लाज्म के 2,302 मामलों का विश्लेषण किया और पाया कि जो लोग साल में 12 बार से अधिक बार हेयर डाई का इस्तेमाल करते हैं, उनमें लिम्फोमा का खतरा अधिक हो सकता है। हालांकि, अध्ययन में कैंसर के लिए जिम्मेदार केमिकल कॉम्बिनेशन के बारे में नहीं बताया गया है।

2 एलर्जी

हेयर डाई में मौजूद रसायन स्कैल्प में इचिंग जैसी दिक्कतें पैदा कर सकते हैं और जलन, रेडनेस के साथ और अन्य एलर्जी का कारण बन सकते हैं। यह अंततः बालों के झड़ने का कारण बन सकता है।

बाल ही नहीं स्कैल्प का भी रखता है ध्यान। चित्र-शटरस्टॉक।

3 बालों को ड्राई बनाते हैं

केमिकल हेयर डाई में मौजूद अमोनिया बालों के क्यूटिकल्स में स्वेलिंग लाता है, जिससे बालों को काफी नुकसान होता है। यह बालों को कमजोर करता है, जिससे बाल टूटते हैं, रूखे होते हैं और दोमुंहे भी हो जाते हैं।

केमिकल वाले हेयर कलर्स से सेहत को पहुंचते नुकसान को देखते हुए वीगन हेयर कलर्स एक बेहतर ऑप्शन हो सकते हैं। ये आपके ट्रेंडी लुक को सूट करने वाले ऐसे कलर्स हैं जिनसे न तो आपकी सेहत को कोई ख़तरा है न किसी तरह के साइडइफेक्ट हैं। 

क्या हैं वीगन हेयर कलर (Vegan hair color)

वीगन कलर्स, एंटी-फेड यूवी हेयर डाई होते हैं, जो आपके बालों को कंडीशन करती है। जिससे  उपयोग के बाद आपके बाल सॉफ्ट तो होते ही हैं साथ ही शाइन भी करते हैं। इन कलर्स में  खास तौर पर आपके बालों को स्वस्थ रखने के लिए सूरजमुखी के बीज, रास्पबेरी के बीज और एवोकैडो तेल होते हैं। वीगन हेयर डाई में अमोनिया और पेरोक्साइड नहीं होते हैं, जबकि रासायनिक डाई इन दो हानिकारक तत्वों से भरी होती हैं।

यहां हैं वीगन हेयर डाई के फायदे 

वीगन हेयर डाई की सबसे अच्छी बात है कि निर्दोष जानवरों को न तो मारा गया है और न ही उन्हें प्रताड़ित किया गया है। इन उत्पादों में प्राकृतिक या जैविक तत्व शामिल हैं, जो लंबे समय तक चलने वाले प्रभाव प्रदान करते हैं। इनमें से कई उत्पाद पैराबेंस, सल्फेट, फ़ेथलेट और खनिज तेलों से मुक्त हैं। उत्पाद विवरण और समीक्षाओं की जांच करने के बाद, उन रंगों को चुनें जो पूर्ण ग्रे कवरेज प्रदान करते हैं और आपके बालों को नुकसान नहीं पहुंचाएंगे। 

वीगन हेयर कलर चुनते के लिए आप कलर सामग्री में इन इनग्रीडिएंट्स को ज़रूर जांच लें।  अगर कलर में ये प्रोडक्ट्स हैं तो आपका कलर सेफ है – 

बालों को वॉल्यूम देता
बालों का ही नहीं स्कैल्प का भी रखे ध्यान

1 चुकंदर

चुकंदर में बीटालेन्स नामक बायोएक्टिव पिगमेंट होते हैं जो फूड कलरिंग में भूमिका निभाते हैं। बिना किसी नुकसान के बालों को प्राकृतिक रूप से रंगने के लिए चुकंदर के पाउडर का इस्तेमाल किया जा सकता है।

2 गाजर:  

बालों को मजबूत, चमकदार और घना बनाने के लिए गाजर का उपयोग किया जा सकता है। यह विटामिन का एक समृद्ध स्रोत है जो बालों की पिगमेंटेशन में सुधार करने में मदद कर सकते हैं।

3 कॉफी

बालों को भूरा बनाने के लिए कॉफी को प्राकृतिक रंगों में मिलाया जाता है। इसका उपयोग बालों को लालभूरा या कालाभूरा बनाने के लिए किया जा सकता है।

4 दालचीनी

दालचीनी का इस्तेमाल अक्सर त्वचा को लाइटन करने वाले एजेंट के रूप में किया जाता है। यही गुण बालों को हल्का करने में भी मदद कर सकते हैं। दालचीनी में विटामिन और सी होता है, इसलिए इन्हें लाइटनिंग एजेंट के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।
चुकंदर के बने ऐसे उत्पादों से दूर रहें जो स्कैल्प पर दाग लगा सकते हैं या अधिक तेज़ी से फीके पड़ सकते हैं।

  • 120
लेखक के बारे में
शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory