केराटिन ट्रीटमेंट बनाम रिबॉन्डिंग : जानिए आपके बालों के लिए क्या रहेगा बेहतर

Published on: 6 October 2021, 19:00 pm IST

चमकदार और मजबूत बालों के लिए, केराटिन ट्रीटमेंट और रीबॉन्डिंग दो बेहतरीन विकल्प हैं। मगर क्या आप जानती हैं कि इन दोनों में क्या अंतर है?

keratin treatment versus rebonding
हेयर ट्रीटमेंट है चित्र ; शटरस्टॉक

हम में से कई लोग अपने बालों में अच्छी चमक वॉल्यूम और अच्छा स्वास्थ्य चाहते हैं। हालांकि, आज ऐसे कई ट्रीटमेंट मौजूद हैं, जो आपके बालों को अच्छी चमक प्रदान करेंगे। इनमें केराटिन ट्रीटमेंट और रिबॉन्डिंग सबसे अच्छे माने जाते हैं। ये ट्रीटमेंट फ्रिजी हेयर के प्रबंधन और स्टाइल में मदद करने के लिए हैं। हालांकि, ये दोनों अपने अलग – अलग तरीके से काम करते हैं। जानना चाहती हैं कि आपके बालों के लिए दोनों में से क्या बेहतर रहेगा? आइए हम आपकी मदद कर देते हैं।

पहले समझित कि केराटिन ट्रीटमेंट रिबॉन्डिंग से किस तरह अलग है

1. केराटिन ट्रीटमेंट (Keratin treatment)

केराटिन ट्रीटमेंट आपके बालों में प्राकृतिक प्रोटीन को फिर से जीवंत करता है, जो पर्यावरणीय और जीवनशैली कारकों के कारण खराब हो जाता है। केराटिन एक प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला प्रोटीन है, जो त्वचा की सतह पर कोशिकाओं में पाया जाता है।

जर्नल ऑफ एनाटॉमी द्वारा प्रकाशित एक शोध के अनुसार, केराटिन बालों के विकास और संरचना के लिए जिम्मेदार है। यह बालों को सुरक्षा प्रदान करता है। यह प्रोटीन हिबिस्कस जैसे फूलों में पाया जा सकता है, जो इसे घरेलू उपचार के लिए भी एक महत्वपूर्ण घटक बनाता है।

 apne baalon ko rakhe mazboot
अपने बालों को रखें मजबूत। चित्र: शटरस्टॉक

इस उपचार के दौरान, मास्क और सामयिक उत्पादों का उपयोग करके बालों पर आर्टीफिशियल रूप से केराटिन लगाया जाता है। जिससे यह चिकने और फ्रिज फ्री हो जाते हैं। बालों की जड़ें केराटिन को अवशोषित करती हैं और इन्हें मजबूत होने और प्रोटीन के साथ पुनर्जीवित करने में मदद करती हैं।

2. रीबॉन्डिंग (Rebonding)

यह उपचार आपके बालों की संरचना को रासायनिक रूप से बदल देता है, जिससे यह चमकदार और सीधे हो जाते हैं। इस प्रक्रिया के दौरान बालों को स्टाइल करने के लिए हीट और रसायनों का उपयोग किया जाता है। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ ट्राइकोलॉजी द्वारा प्रकाशित एक शोध के अनुसार, रिबॉन्डिंग आपके बालों की प्राकृतिक कोशिका संरचना को फिर से बनाने में मदद करती है।

यहां बताया गया है कि केराटिन ट्रीटमेंट और रीबॉन्डिंग आपके बालों को कैसे प्रभावित करते हैं –

1. केराटिन (Keratin):

यह ट्रीटमेंट फ्रिजी हेयर को मैनेज करने में मदद करता है, और चिकने चमकदार बाल देता है। चूंकि बाल स्वाभाविक रूप से केराटिन से भरपूर होते हैं। इसलिए इस ट्रीटमेंट से बालों में प्राकृतिक प्रोटीन की भरपाई करने में मदद मिलेगी, जिससे ये सीधे हो जाएंगे। हालांकि, इस ट्रीटमेंट के लिए आपको कई तरह के प्रोडक्टस इस्तेमाल करने की आवश्यकता हो सकती है।

keratin treatment versus rebonding
उस ट्रीटमेंट को चुनें जो आपको सबसे अच्छा लगे! सीहीटर : शटरस्टॉक

2. रीबॉन्डिंग (Rebonding):

रेशमी और सीधे बालों के लिए, रीबॉन्डिंग एक आजमाया और परखा हुआ ट्रीटमेंट है। यह बालों को फ्रिज फ्री बनाता है, जिससे यह आकर्षक और चमकदार दिखते हैं। हालांकि, इस उपचार का रासायनिक घटक डैमेज बालों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है। नियमित रूप से रिबॉन्डिंग बालों के स्ट्रैंड को और कमजोर कर सकती है।

रिबॉन्डिंग केराटिन ट्रीटमेंट से अधिक समय तक रहती है। यह तय करते समय कि कौन सा उपचार चुनना है, यह आपके बालों के प्रकार और आवश्यकताओं पर निर्भर करेगा।

तो लेडीज, एक विशेषज्ञ से परामर्श करें और उस ट्रीटमेंट को चुनें जो आपको सबसे अच्छा लगे!

यह भी पढ़ें : जानिए गीले बालों में की जानें वाली यह आम गलतियां, जो आपके बालों पर कहर बरपा सकती हैं

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें