आपके चेहरे की रंगत खराब कर सकती है हाइपरपिग्मेंटेशन! जानिए क्या हैं इसके कारण

उम्र बढ़ने और हॉर्मोन में बदलाव के साथ आपको बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। पर जब बात चेहरे पर दिखने वाली झाइयों की आती है, तो यह काफी तनाव भरा हो सकता है।

pigmentation ke karan
बेकिंग सोडा पिगमेंटेशन को करें दूर। चित्र: शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 11 August 2021, 12:29 pm IST
  • 84

हाइपरपिग्मेंटेशन, त्वचा की एक ऐसी समस्या है जिसमें त्वचा का कुछ हिस्सा ज्यादा गहरा दिखने लगता है और अनइवन हो जाता है। यह तब होता है जब त्वचा बहुत अधिक मेलेनिन (melanin) का उत्पादन करती है। मेलेनिन एक प्रकार का प्रोटीन, जो आपकी त्वचा को उसका प्राकृतिक रंग देने के लिए जिम्मेदार है। यह लगभग सभी प्रकार की त्वचा को प्रभावित करता है।

यह असमान स्किन पिगमेंटेशन कई कारकों के कारण हो सकता है। बदले में, ये कारक चेहरे, हाथ और पैरों सहित कुछ क्षेत्रों में पिगमेंटेशन डिसऑर्डर का कारण बनते हैं। इससे पहले कि आप यह पता करें कि इसका इलाज कैसे हो सकता है, आपको हाइपरपिग्मेंटेशन के पीछे के कारणों को जानना चाहिए।

क्या बनता है हाइपरपिग्मेंटेशन का कारण

1. सन एक्सपोजर (Sun exposure)

अत्यधिक धूप के संपर्क में आने से आपकी त्वचा गहरी, असमान और पिगमेंटेड दिख सकती है। पिगमेंटेशन वाले लोगों को अपनी त्वचा को सूरज के संपर्क से बचाना चाहिए, अन्यथा इसके परिणामस्वरूप हाइपरपिग्मेंटेशन हो सकता है, जिससे मुकाबला करना मुश्किल है। आम तौर पर, सनस्पॉट त्वचा के उन क्षेत्रों को प्रभावित करने की अधिक संभावना रखते हैं जिनमें आपका चेहरा, हाथ और पैर शामिल हैं।

hyperpigmentation ke karan
धूप में रहने से भी हो सकता है हाइपरपिगमेंटेशन. चित्र : शटरस्टॉक

2. पोस्ट-इंफ्लेमेटरी हाइपरपिग्मेंटेशन (Post-inflammatory hyperpigmentation)

ऐसे कई कारक हैं, जो आपकी त्वचा में सूजन बढ़ा सकते हैं। पोस्ट-इंफ्लेमेटरी हाइपरपिग्मेंटेशन से त्वचा पर गहरे काले या भूरे रंग के धब्बे पड़ सकते हैं। यह मुंहासों के धब्बों के कारण भी हो सकता है या जब त्वचा पर चोट लग जाती है।

3. मेलास्मा (Melasma)

मेलास्मा, जिसे क्लोस्मा (chloasma) भी कहा जाता है, एक त्वचा की स्थिति है जिसमें भूरे और नीले-भूरे रंग के पैच या झाई जैसे धब्बे होते हैं। यह हाइपरपिग्मेंटेशन का एक रूप है जो ज्यादातर चेहरे पर देखा जाता है।

हालांकि, यह प्रभावित त्वचा में जैविक रूप से सक्रिय मेलानोसाइट्स की उपस्थिति, हार्मोनल परिवर्तन या यूवी किरणों के संपर्क में आने के कारण हो सकता है। यह विशेष रूप से गर्भावस्था के दौरान होता है।

4. ड्रग्स

कुछ दवाएं जैसे मलेरिया-रोधी दवाएं और ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट्स के कारण हाइपरपिग्मेंटेशन हो सकता है, क्योंकि वे आपकी त्वचा की संवेदनशीलता को बढ़ाते हैं, जिससे आपकी त्वचा का रंग गहरा और रूखा हो जाता है।

5. एजिंग

कभी-कभी पिगमेंटेशन उम्र बढ़ने के साथ भी जुड़ा होता है। टैन रेखाएं, झुर्रियां और उच्च रक्तचाप त्वचा की कुछ ऐसी स्थितियां हैं, जो उम्र बढ़ने के साथ होती हैं। उम्र बढ़ने से त्वचा पर हल्के भूरे से गहरे भूरे रंग के धब्बे दिखाई दे सकते हैं।

hyperpigmentation ke karan
बढ़ती उम्र भी है हाइपरपिगमेंटेशन का कारण । चित्र: शटरस्‍टॉक

6. एक्ने स्कार्स

एक्ने से संबंधित हाइपरपिग्मेंटेशन तब होता है जब किसी दोष के ठीक होने के बाद काले धब्बे विकसित हो जाते हैं। मुंहासे से संबंधित हाइपरपिग्मेंटेशन वास्तव में एक सामान्य स्थिति है जो आपकी त्वचा को पीला और परतदार बना सकती है।

यहां ऐसे तरीके दिए गए हैं जो हाइपरपिग्मेंटेशन को कम कर सकते हैं:

आप सेब के सिरके को नियमित रूप से लगा सकती हैं, क्योंकि इसमें पॉलीफोनिक यौगिक होते हैं, जो हाइपरपिग्मेंटेशन को प्रबंधित करने में फायदेमंद हैं।
बाहर निकलते समय हमेशा सनस्क्रीन लगाएं।
अपनी त्वचा को हाइड्रेट रखें क्योंकि नमी त्वचा की रंगत को बेहतर बनाने में मदद करती है।
चंदन हाइपरपिग्मेंटेशन स्पॉट को हल्का करने में मदद करता है। तो आप अपनी त्वचा की स्थिति से निपटने के लिए चंदन के फेस मास्क का उपयोग कर सकती हैं।

लेडीज, आप डॉक्टर के पास भी जा सकती हैं यदि ये घरेलू उपचार इस स्थिति को ठीक नहीं कर पाते।

यह भी पढ़ें : इस मानसून, DIY नीम और नारियल तेल बॉडी स्क्रब से त्वचा के संक्रमण को कहें अलविदा

  • 84
लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory