फॉलो

अब एक एक्‍सपर्ट से जानिए कि इन दिनों ज्‍यादा क्‍यों झड़ रहे हैं आपके बाल और हेयर केयर टिप्‍स भी

Published on:16 August 2020, 15:00pm IST
हेयर फॉल ज्‍यादातर लोगों की समस्‍या है, पर सबके लिए यह एक सी नहीं है और न ही इसके कारण सभी के लिए समान होते हैं। एक्‍सपर्ट बता रहे हैं हेयर फॉल का कारण और उससे बचने के उपाय।
Dr. Sachin Dhawan
  • 100 Likes
बाल झड़ने का कभी भी कोई एक अकेला कारण नहीं होता। चित्र: शटरस्‍टॉक

बालों का झड़ना और बारिश एक-दूसरे के पर्यायवाची बन चुके हैं और बारिश का मौसम शुरू होते ही अधिकतर लोग विशेष रूप से महिलाएं बड़ी मात्रा में बाल झड़ने की शिकायत करने लगती हैं। इससे व्यक्ति को बहुत तनाव होता है और उनमें से कई तो इलाज कराने के लिए डर्मेटोलॉजिस्ट्स के पास पहुंच जाते हैं।

हेयर फॉल की दो बड़ी वजह

बड़ी मात्रा में बाल झड़ने की दो वजहें होती हैं- पहली वजह है मौसमी नुकसान। चूंकि बालों का मुख्य उपयोग शरीर की गर्मी का संरक्षण करना और हमारे पूर्वजों को ठंड से बचाना था और इसलिए गर्मियों और मॉनसून के मौसम में सिर समेत पूरे शरीर से बाल झड़ते हैं, जो ठंड के मौसम में फिर उग आते हैं। यह मौसम के अनुसार हमारे शरीर में होने वाले हॉर्मोनल बदलाव के कारण होता है।

यह सच है कि मॉनसून में बाल ज्‍यादा टूटने लगते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

दूसरी वजह पर्यावरण संबंधी है

इस मौसम में पर्यावरण में काफी नमी होती है जिससे बालों की जड़ें नाजुक हो जाती हैं और स्कैल्प से मज़बूती से नहीं जुड़ी रह पाती। ऐसे में हल्का सा झटका या ज़ोर लगाकर कंघी करने से वे टूट जाते हैं। इसके साथ ही मॉनसून के दौरान बाल काफी फ्रिज़ी हो जाते हैं जिससे वे आसानी से उलझ जाते हैं और सुलझाने पर टूटने लगते हैं।

बालों का झड़ना ज्यादातर महिलाओं में उम्र के साथ बढ़ता जाता है। चित्र: शटरस्टॉेक

हवा में मौजूद प्रदूषक तत्व ऐसिड रेन करते हैं और उससे बालों के प्रोटीन को नुकसान पहुंचता है। नमी के कारण फंगल डैंड्रफ भी बढ़ जाती है और उससे बालों का झड़ना बढ़ जाता है।

पोषक तत्‍वों की कमी भी है कारण

स्वस्थ पोषण युक्‍त शरीर में स्वस्थ और अच्छे बाल होते हैं। अगर आपके शरीर में पोषक तत्वों की कमी है तो उसका असर आपके बालों पर भी पड़ेगा और मॉनसून संबंधी मौसमी गिरावट का आपके बालों पर अधिक असर होगा। उन्हें उससे पूरी तरह उबरने में भी मुश्किल होगी।

ऐसे लोग जो कम कैलोरी वाला भोजन ले रहे हैं 1800 कैलोरी से कम की डायट या कार्बोहाइड्रेट मुक्त डाइट जैसे कीटो डाइट या भोजन के बीच लंबे अंतराल वाल इंटरमिटेंट फास्टिंग कर रहे हैं उनके बाल टेलोजन एफ्लुवियम नामक प्रक्रिया से गिरते हैं। इसलिए नियमित अंतराल पर कार्बोहाइड्रेट्स, फैट्स और प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा वाला संतुलित आहार लेना बहुत आवश्यक है।

बालों को लम्बा और घना करना है तो डाइट का ध्‍यान रखें। चित्र: शटरस्‍टॉक

हेयर फॉल से बचने के लिए फॉलों करें ये एक्‍सपर्ट एडवाइस

1 मॉनसून में उलझे बाल सुलझाने के लिए चौड़े दांतों वाले लकड़ी के कंघे का इस्तेमाल करें जिससे ‘स्टैटिक’ घटेगा और बालों को अधिक नुकसान नहीं होगा।

2 बहुत अधिक गर्म पानी या हेयर ड्रायर्स का इस्तेमाल नहीं करें। नहाने के बाद लंबे समय तक बालों को गीला नहीं रहने दें, उन्हें अधिक रगड़े बिना उन्हें धीरे-धीरे तौलिए से या धूप में सुखाएं।

3 अगर बाल बारिश में गीले हो जाएं तो घर पहुंचते ही उन्हें धोएं जिससे ऐसिड रेन या प्रदूषक तत्व उनसे निकल जाएं।

4 बाल धोने के लिए सल्फेट और पैराबेन मुक्त शैंपू का इस्तेमाल करें और अगर सिर में डैंड्रफ है तो सौम्य डैंड्रफ शैंपू या ऐंटी फंगल हेयर लोशन का इस्तेमाल करें।

    बालों को हमेशा माइल्‍ड शैंपू से ही धोएं। चित्र- शटरस्टॉक।

5 लंबे समय तक तेल लगाकर नहीं रखें, सप्ताह में एक या दो बार हल्के तेल से मालिश करें। ऐसे कंडीशनर का उपयोग करें जिसे लगाकर छोड़ा जा सके और उसे बालों की जड़ों में नहीं लगाएं।

6 बालों को स्वस्थ रखने में मददगार खाद्य पदार्थों में अखरोट, बीज और सूखे मेवे, पनीर, दही, अंडे, सफेद मांस विशेष रूप से मछली, टोफू और लौह की अधिक मात्रा वाले पदार्थ जैसे सेब, अनार और पालक शामिल हैं।

7 इनके अतिरिक्त, कम बाल झड़ने के मामले में हल्के बायोटीन सप्लीमेंट्स और पेपटाइड वाले हेयर सीरम का इस्तेमाल किया जा सकता है।

तो गर्ल्‍स, इन कदमों से आप मॉनसून के दौरान बाल झड़ने की समस्या घटा सकते हैं और उससे उबर भी सकते हैं। ऐसे मामले जिनमें बालों का झड़ना काबू नहीं हो रहा हो वहां योग्य डर्मेटोलॉजिस्ट से जल्दी संपर्क करें जिससे प्रासंगिक टेस्ट और हॉर्मोनल चेकअप हो सकें और उसी के अनुसार दवा दी जा सके। हैप्पी मॉनसून।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dr. Sachin Dhawan Dr. Sachin Dhawan

Dr. Sachin Dhawan is a Senior Consultant at Fortis Memorial Research Institute, Gurugram

संबंधि‍त सामग्री