वैलनेस
स्टोर

कहीं ज्यादा मीठा खाने की आदत आपको बूढ़ा तो नहीं बना रही, जानिए क्या होता है ज्यादा चीनी का स्किन पर असर

Updated on: 14 July 2021, 15:39pm IST
मिठाई या ज्यादा चीनी खाने की आदत आपकी स्किन को भी बहुत नुकसान पहुंचा सकती है। इससे आपकी स्किन एजिंग की समस्या बढ़ जाती है।
मोनिका अग्रवाल
  • 79 Likes
ज्यादा चीनी का सेवन एजिंग को तेज करता है। चित्र: शटरस्टॉक

माना कि खाने का स्वाद बिना मीठे के अधूरा है। यदि आप थोड़ा बहुत मीठा खाती हैं तो कोई समस्या नहीं। लेकिन यदि आपको मीठे का बहुत शौक है तो आपके लिए संभलने की जरूरत है। दरअसल ज्यादा शुगर का सेवन न केवल आपके शरीर को अंदर से बीमार करता है बल्कि इसकी वजह से स्किन एजिंग की समस्या भी बढ़ जाती है। असल में शुगर हमारी स्किन को बहुत तरह से प्रभावित करती है और उसे डेमेज करने में भी एक अहम हिस्सा निभाती है।

चीनी या चीनी से बनी हुई चीजों को खाने के लिए सावधानी बरतने से मेरा मतलब यह नहीं है कि आप इसका सेवन बंद कर दें।

एक्सपर्ट व्यू

डॉक्टर भावुक मित्तल, डर्मेटोलॉजिस्ट कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल के अनुसार, शुगर आपकी स्किन को नेचुरल प्रोसेस से डैमेज करते हैं जिसको ग्लाइकेशन के नाम से जाना जाता है। ये आपकी ब्लड स्ट्रीम में मौजूद प्रोटीन से जुड़ जाती है और हानिकारक फ्री रेडिकल्स पैदा करती है। जिसे एडवांस ग्लाइकेशन एंड प्रोडक्ट्स (एजीई) कहा जाता है। जैसे-जैसे AGE जमा होते हैं वे अपने आसपास के प्रोटीन को नुकसान पहुंचाते हैं।

ज्यादा चीनी खाने की आदत स्किन एजिंग के लिए जिम्मेदार है। चित्र : शटरस्टॉक

कोलेजन और इलास्टिन को डेमेज करती है

जो दो प्रोटीन आपकी स्किन को बेहतर और अच्छा रखने के जिम्मेदार होते हैं वह शुगर के द्वारा बहुत अधिक मात्रा में प्रभावित किए जाते हैं और उन दोनों के नाम हैं कोलेजन और इलास्टिन। यह आपकी स्किन को ढीली पड़ने से रोकते हैं और कठोर बना कर रखते हैं।

एक जवान स्किन और निखरी हुई त्वचा पाने के लिए आपको इन दोनों चीजों की जरूरत पड़ती है। अगर आप अधिक शुगर का सेवन करती हैं तो इससे इन दोनों प्रोटीन की मात्रा कम होती है। आपको फाइन लाइंस और झुर्रियों की समस्या देखने को मिलती है।

जिस प्रकार का कोलेजन आपके पास है उसे प्रभावित करती है

आपकी स्किन में मुख्य रूप से तीन प्रकार के कोलेजन होते हैं। अगर आपकी डाइट में शुगर की मात्रा अधिक है तो इसके प्रकार पर असर पड़ता है। टाइप 3 सबसे मजबूत होता है पी टाइप 1 सबसे कमजोर। अधिक शुगर के कारण टाइप 3 कोलेजन धीरे धीरे टाइप 1 में बदलने लगता है। इसके द्वारा आपकी स्किन स्ट्रेंथ और मजबूती कम होने लगती है।

प्राकृतिक एंटी ऑक्सीडेंट्स एंजाइम को कम करती है

अधिक शुगर खाने से आपकी स्किन के प्राकृतिक एंटी ऑक्सीडेंट्स एंजाइम भी कम होने लगते हैं। इसका मतलब होता है कि आपकी स्किन को अब फ्री रेडिकल्स से डेमेज होने का खतरा अधिक बढ़ जाता है। इससे आपको प्रदूषण, यूवी किरणें और ब्लू लाइट हर चीज से खतरा बढ़ने लगता है और आपकी स्किन की गुणवता बहुत ही बेकार होनी शुरू हो जाती है।

अपनी स्किन का ख्याल रखने के लिए चीनी का सेवन कम करें। चित्र : शटरस्टॉक

लक्षण जो बताते हैं कि चीनी आपकी स्किन को प्रभावित कर रही है

स्किन का सर्फेस बहुत ही कठोर और शाइन नजर आता है।
होंठों के ऊपर गहरी गहरी लाइन दिखने लगती हैं।
स्किन पर डिस कलरेशन और हाइपर पिगमेंटेशन देखने को मिलती है।
स्माइल लाइन के आस पास गहरी गहरी रेखाएं देखने को मिलती हैं।
आपके जबड़े के आस पास की स्किन ढीली पड़ने लगती है।

स्किन को शुगर से होने वाले नुकसान से कैसे बचाएं

1 शुगर की मात्रा कम करें

अगर आप शुगर के आदी हैं तो इसे अपनी डाइट से एकदम से कम कर देना मुश्किल होगा। इसलिए आपको धीरे धीरे थोड़ी थोड़ी मात्रा कम करते रहना चाहिए और केवल सीमा में ही शुगर का सेवन करना चाहिए।

2 खुद को हाइड्रेट रखें

पानी अधिक पीने से आपके शरीर के टॉक्सिंस बाहर निकल जाते हैं और यह आपको बाहर से एक बहुत अच्छी स्किन देते हैं। इससे शुगर खाने से होने वाले नुकसान की भी भरपाई हो जाती है।

इन सभी के अलावा आपको अपनी लाइफस्टाइल पर एक नजर रखनी चाहिए। पर्याप्त मात्रा में नींद लें, एक संतुलित मील का सेवन करें और एक हेल्दी लाइफस्टाइल अपनायेंए्। ताकि शुगर के सेवन करने से आपकी स्किन डेमेज न हो। बल्कि साथ में भरपाई होती रहे।

यह भी पढ़ें – नॉन एल्कोहलिक फैटी लीवर से खुद को सुरक्षित रखना चाहती हैं, तो इन 6 लक्षणों पर ध्यान दें

मोनिका अग्रवाल मोनिका अग्रवाल

स्वतंत्र लेखिका-पत्रकार मोनिका अग्रवाल ब्यूटी, फिटनेस और स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर लगातार काम कर रहीं हैं। अपने खाली समय में बैडमिंटन खेलना और साहित्य पढ़ना पसंद करती हैं।