ऐप में पढ़ें

इन 3 आयुर्वेदिक सामग्रियों के साथ अपने बालों में लाएं फिर से नई जान

Published on:20 October 2021, 11:00am IST
आयुर्वेद में बालों के लिए कई सामग्रियों के उपयोग का उल्लेख है। इन्हीं में से तीन खास सामग्रियों को हम आपके लिए लाए हैं।
baalon ke liye ayurvedic remedies
इन 3 आयुर्वेदिक सामग्रियों के साथ अपने बालों में लाएं फिर से नई जान। चित्र : शटरस्टॉक

स्वस्थ और सुंदर बाल प्राप्त करने के लिए सौंदर्य और कॉस्मेटिक उत्पादों की एक विस्तृत विविधता उपलब्ध है। हालांकि, प्राकृतिक अवयवों जितना प्रभावी कुछ नहीं है, क्योंकि ये सिंथेटिक रसायनों के प्रतिकूल प्रभावों के बिना बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। प्राकृतिक अवयवों के क्षेत्र में, आयुर्वेद पारंपरिक भारतीय ज्ञान की कसौटी पर खरा उतरता है, जो बालों के समग्र स्वास्थ्य की रक्षा और सुधार करने में मदद करता है।

आयुर्वेद शब्द ‘आयु’ से बना है, जिसका अर्थ है जीवन या दीर्घायु, और ‘वेद’, जिसका अर्थ है ज्ञान या विज्ञान। आयुर्वेद में अभ्यास और औषधीय मिश्रण शामिल हैं जो समग्र स्वास्थ्य और भलाई को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। विभिन्न आयुर्वेदिक सामग्रियां हैं जिन्हें कोई भी अपने बालों की देखभाल में शामिल करने के लिए चुन सकता है, चाहे वह बालों के तेल या मास्क हों।

यहां तीन आयुर्वेद सामग्रियां हैं जो आपके बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देंगी

1. हिबिस्कस

गुड़हल का फूल एक प्रमुख आयुर्वेदिक घटक है और बालों के स्वास्थ्य के लिए लाभकारी गुणों के लिए जाना जाता है। जर्नल ऑफ एथनोफर्माकोलॉजी में एक अध्ययन के अनुसार, हिबिस्कस फूलों का उपयोग करके निष्क्रिय बालों के रोम और गंजे पैच से पूरी तरह से छुटकारा पाया जा सकता है।

apne baalon ko rakhe mazboot
अपने बालों को रखें मजबूत। चित्र: शटरस्टॉक

इसमें अमीनो एसिड होता है, जो केराटिन का उत्पादन करता है, जो बदले में बालों को पोषक तत्व प्रदान करता है। यह बालों के विकास, पुनर्जलीकरण और रूसी से लड़ने में मदद करता है। हिबिस्कस को पीसकर पेस्ट बनाया जा सकता है और बालों का तेल या मास्क बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

2. आंवला

आयुर्वेद में, आंवला एक व्यापक रूप से खाया जाने वाला फल है, क्योंकि यह स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। यह पोषक तत्वों से भरपूर फल है जो आवश्यक विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट की उपस्थिति के कारण बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। ये गुण डैमेज बालों के स्वास्थ्य में सुधार करते हैं, बालों का झड़ना रोकते हैं, और रूसी, दोमुंहे और सूखेपन को दूर करते हैं।

ये समृद्ध घटक खोपड़ी के स्वास्थ्य को जूँ और परजीवी संक्रमण से बचाते हैं। आप इस सामग्री का महीन पाउडर बनाकर, क्लीन्ज़र, तेल या मास्क बनाने के लिए भी कर सकती हैं।

बालों के लिए फायदेमंद है आंवला । चित्र : शटरस्टॉक

3. मेथी

मेथी एक आयुर्वेदिक घटक है जो बालों के झड़ने को प्रबंधित करने, रूसी को कम करने और शुष्क खोपड़ी को मॉइस्चराइज़ करने में मदद करता है।

यह आयरन, प्रोटीन, फोलिक एसिड और विटामिन जैसे A, K, और C का एक समृद्ध स्रोत है। आप मेथी को पीसकर और पेस्ट बनाकर इस्तेमाल कर सकती हैं, जिसे बाद में हेयर मास्क या क्लींजर तैयार करने के लिए शामिल किया जा सकता है।

तो, लेडीज, इन आयुर्वेदिक उपायों को अपने हैयर केयर रूटीन में शामिल करें, और अपने बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा दें!

यह भी पढ़ें : प्याज के ये DIY हैक्स लगा सकते हैं आपकी ब्यूटी में चार चांद, जानिए इनके बारे में

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।