यंग दिखने के लिए लेने जा रही हैं केमिकल पील ट्रीटमेंट, तो जान लें ये ज़रूरी बातें

केमिकल पील ट्रीटमेंट लेने जा रही हैं तो हो जाएं सावधान, क्योंकि इसके कई साइड इफैक्ट भी हैं। जानें इस कॉस्मेटिक ट्रीटमेंट के बारे में सब कुछ।

chemical peeling
जानिए क्या केमिकल पील ट्रीटमेंट आपकी त्वचा के लिए सेफ है. चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 23 September 2022, 11:00 am IST
  • 123

बाज़ार में त्वचा को यंग और ग्लोइंग लुक देने के लिए कई तरह के ट्रीटमेंट मौजूद हैं। इससे आप अपनी त्वचा को और ज़्यादा निखार सकती हैं और ज़्यादा जवां बना सकती हैं। इन्ही ट्रीटमेंट में से एक है केमिकल पील ट्रीटमेंट। ये ट्रीटमेंट सेलेब्रिटीज के बीच काफी पॉपुलर है। ऐसा इसलिए क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इससे खराब और बेजान त्वचा निकल जाती है और अंदर से नई स्किन बनती है, जो पहले से ज़्यादा हेल्दी और ग्लोइंग होती है।

तो अगर आप भी सेलेब्रिटीज के बीच पॉपुलर इस केमिकल पील ट्रीटमेंट को ट्राई करने के बारे में सोच रही हैं, तो यह समझना ज़रूरी है कि क्या यह वाकई में फायदेमंद है? और क्या वाकई आपको इसकी ज़रूरत है? क्योंकि केमिकल पील ट्रीटमेंट (Chemical Peel Treatment) महंगा होने के साथ – साथ काफी टाइम टेकिंग भी है।

तो चलिये जानते हैं केमिकल पील ट्रीटमेंट के बारे में सब कुछ

क्या होता है केमिकल पील ट्रीटमेंट

मेयो क्लीनिक के अनुसार यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें ऊपरी परतों को हटाने के लिए त्वचा पर एक केमिकल लगाया जाता है। जिसकी वजह से पहले वाली स्किन निकल (Skin Peeling) जाती है और आने वाली स्किन हेल्दी और सॉफ्ट होती है। यह ट्रीटमेंट एक बार में नहीं होता है इसके लिए कुछ सिटिंग लगती हैं।

केमिकल पील का उपयोग झुर्रियों, फीकी पड़ चुकी त्वचा और दाग-धब्बों के इलाज के लिए किया जाता है। यह ट्रीटमेंट आमतौर पर चेहरे पर किया जाता है।

आपकी त्वचा के लिए कैसे फायदेमंद है केमिकल पील

क्लीवलैंड क्लीनिक के अनुसार केमिकल पील्स का उपयोग त्वचा की कुछ स्थितियों के इलाज के लिए या आपकी त्वचा की टोन और बनावट में सुधार करके के लिए किया जाता है। ये आमतौर पर आपके चेहरे, गर्दन या हाथों पर किया जाता है। जानिए किन चीजों में मदद करता है केमिकल पील

एक्ने और पिंपल्स को दूर कर स्किन को ग्लोइंग बनाती है। चित्र: शटरस्टॉक

आपकी आंखों के नीचे या आपके मुंह के आसपास फ़ाइन लाइंस और सन डैमेज, उम्र बढ़ने या जेनेटिक्स के कारण झुर्रियां

कुछ प्रकार के पिंपल्स।

हल्का घाव।

सन स्पॉट्स, एजिंग स्पॉट्स, झाईयां, अनइवन स्किन टोन।

एक्टिनिक केराटोसिस नामक प्रीकैंसरस स्केली स्पॉट।

रूखी त्वचा, पपड़ीदार धब्बे, गहरा रंग।

गर्भावस्था या गर्भनिरोधक गोलियां लेने के कारण काले धब्बे (मेल्ज़ामा)।

क्या केमिकल पील सभी प्रकार की त्वचा के लिए अच्छा है?

आम तौर पर, केमिकल पील का उपयोग सभी प्रकार की त्वचा पर किया जा सकता है। हालांकि, यदि आपकी त्वचा का रंग गहरा है, तो उपचार के बाद आपकी त्वचा के काले पड़ने का जोखिम हो सकता है। इस स्थिति को पोस्ट-इंफ्लेमेटरी हाइपरपिग्मेंटेशन कहा जाता है। यदि आपकी त्वचा का रंग स्वाभाविक रूप से गहरा है, तो आप हाइपरपिग्मेंटेशन के जोखिम को कम करने के लिए विशेषज्ञ से सलाह ले सकती हैं।

केमिकल पील का इस्तेमाल न करें यदि

यदि आप धूप से नहीं बच सकती
आपको कोई स्किन प्रोब्लम है
यदि आप पहले से किसी समस्या का इलाज करवा रही हैं

हर समस्या का समाधान है, चित्र:शटरस्टॉक

क्या स्किन पीलिंग के कोई रिस्क हैं?

खुजली और सूजन

केमिकल पीलिंग कुछ लोगों की स्किन के लिए काफी सेंसिटिव ट्रीटमेंट हो सकता है। इसे करवाने के बाद आपकी स्किन कुछ समय के लिए लाल रेह सकती है।

त्वचा के रंग में परिवर्तन

कभी – कभी केमिकल पील ट्रीटमेंट त्वचा के हाइपरपिग्मेंटेशन का कारण बन सकता है। ये समस्याएं गहरी रंग की त्वचा वाले लोगों में अधिक आम हैं और कभी-कभी स्थायी भी हो सकती हैं।

इन्फेक्शन

केमिकल पील जीवाणु, कवक या वायरल संक्रमण का कारण बन सकता है। इतना ही नहीं ये दिल, गुर्दे या लिवर डैमेज का भी कारण बन सकता है। केमिकल पील में इस्तेमाल किया गया कार्बोलिक एसिड हृदय की मांसपेशियों को नुकसान पहुंचा सकता है और दिल की धड़कन को अनियमित कर सकता है।

इसलिए यदि आप भी केमिकल पील ट्रीटमेंट लेने के बारे में सोच रही हैं, तो एक बार अपने डर्मेट से सलाह लेलें।

यह भी पढ़ें : बेदाग त्वचा और मजबूत बाल चाहिए तो ब्यूटी रिजीम में करें पालक का इस्तेमाल, ये रहे 4 DIY हैक्स 

  • 123
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
nextstory