लॉग इन

हेयर केयर ही नहीं ये 5 पोषक तत्व भी हैं बालों की ग्रोथ में मददगार, जानिए कैसे

हेयर प्रॉबल्म का हल खोजने के लिए बालों पर प्रोडक्टस को अप्लाई करने के साथ शरीर में बढ़ रही डेफिशेंसी को दूर करने पर ध्यान देना भी आवश्यक है। जानते हैं वो पोषक तत्व, जिनसे बालों की ग्रोथ में मदद मिलती है
सभी चित्र देखे
मेथीदाना को रोज़ाना सीमित मात्रा में खाने से फ्लेवोनोइड्स, एल्कलॉइड और सैपोनिन जैसे कंपाउड की प्राप्ति होती हैं। चित्र- अडोबी स्टॉक
ज्योति सोही Published: 24 Jun 2024, 10:00 am IST
ऐप खोलें

बालों की ग्रोथ को बढ़ाने और उन्हें लंबा और घना करने के लिए अक्सर लोग होम रेमेडीज़ और केमिकल युक्त प्रोडक्टस का प्रयोग करते हैं। इससे बालों की समस्या ज्यों की त्यों बनी रहती है। हेयर प्रॉबल्म का हल खोजने के लिए बालों पर प्रोडक्टस को अप्लाई करने के साथ शरीर में बढ़ रही डेफिशेंसी को दूर करने पर ध्यान देना भी आवश्यक है। दरअसल, कुछ पोषक तत्वों की कमी से बालों का झड़ना, टूटना और स्कैल्प संक्रमण बढ़ने लगता है। जानते हैं वो कौन से पोषक तत्व हैं, जिनसे बालों की ग्रोथ में मदद मिलती है।

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ कॉस्मेटिक साइंस के अनुसार एंटीऑक्सिडेंटस की मात्रा बालों को सनडैमेज से बचाने में मदद करते हैं। इससे बालों का टूटना और झड़ना कम होने लगता है।

इस बारे में डायटीशियन मनीषा गोयल बताती हैं कि बालों को मज़बूत बनाने के लिए आहार में विटामिन ए, सी, डी और ई को आहार में शामिल करें। इसके अलावा जिंक, आयरन, बायोटिन और प्रोटीन भी बालों की ग्रोथ के लिए महत्वपूर्ण है। आहार में विटामिन और मिनरल की उच्च मात्रा समय में पहले बालों में बढ़ने वाली सफेदी को रोकने में मदद करती है।

आहार में विटामिन और मिनरल की उच्च मात्रा समय में पहले बालों में बढ़ने वाली सफेदी को रोकने में मदद करती है। चित्र : शटरस्टॉक

इन पोषक तत्वों की मदद से बालों की ग्रोथ में मिलती है मदद (Nutrients for hair growth)

1. प्रोटीन और बायोटिन (Protein and biotin)

बायोटिन यानि विटामिन बी 7 से फॉलिकल्स को मज़बूती मिलती है। इससे बालों और नाखूनों को टूटने से रोका जा सकता है। वहीं प्रोटीन से बालों की चमक बरकरार रहती है और हेयर डैमेज को भी कम किया जा सकता है। इसके लिए आहार में अंडा, टोफू, एवोकाडो, पालक और बादाम को शामिल करें। दरअसल, बायोटिन डेफिशेंसी से बालों के साथ स्किन को भी नुकसान पहुंचने लगता है।

2. आमेगा 3 फैटी एसिड (Omega 3 fatty acid)

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेलथ की एक रिपोर्ट के अनुसार 120 महिलाओं पर किए गए रिसर्च में पाया गया कि उन्होंने ओमेगा 3 फैटी एसिड और ओमेगा 6 फैटी एसिड का सेवन किया। इसके बाद हेयर डेंसिटी में सुधार पाया गया। ऐसे में फैटी फिश का सेवन बालों की ग्रोथ के लिए आवश्यक है। इसके अलावा अलसी के बीज और अखरोट भी बालों को टूटने से रोकने में मदद करते हैं।

3. बीटा कैरोटीन (Beta carotene)

शरीर में बीटा कैरोटीन की मात्रा विटामिन ए में कनवर्ट हो जाती है, जिससे हेयरलॉस को रोकने में मदद मिलती है। स्वीट पोटेटो, गाजर और स्ट्रॉबेरी का सेवन करने से शरीर में विटामिन ए की कमी को पूरा किया जा सकता है। साथ ही सीबम प्रोडक्शन को रेगुलेट करने में मदद मिलती है। इससे स्कैल्प का रूखापन कम हो जाता है और बालों को मज़बूती मिलती है।

शरीर में बीटा कैरोटीन की मात्रा विटामिन ए में कनवर्ट हो जाती है, जिससे हेयरलॉस को रोकने में मदद मिलती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

4. विटामिन ई (Vitamin E)

एंटीऑक्सीडेंटस के रूप में विटामिन ई बालों और स्किन दोनों के लिए कारगर है। विटामिन ई का सेवन करने से बालों को फ्री रेडिकल्स के प्रभाव से मुक्त रखा जा सकता है। साथ ही बालों की शान मेंटेन रहती है। इससे स्कैल्प की डैमेज स्किन को भी रिपेयर करने में मदद मिलती है और रूसी को कम किया जा सकता है। इसके लिए आहार में एवोकाडो समेत विटामिन ई रिच फूड्स का सेवन करें।

5. आयरन (Iron)

शरीर में आयरन की कमी हेयरलॉस को बढ़ा देती है। बालों की जडों को मज़बूती प्रदान करने के लिए आयरन रिच डाइट लें। इसके लिए आहार में पालक, चुकंदर और प्रून्स को शामिल करें। आयरन का सेवन करने से बालों को ऑक्सीडेटिव तनाव से बचाया जा सकता है।

ये भी पढ़ें- Triphala benefits for hair : डैंड्रफ कम कर बालों को जड़ से मजबूत बनाता है त्रिफला, जानें कैसे करना है इस्तेमाल

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
ज्योति सोही

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख