एजिंग पर लगाम लगा आपकी त्वचा में नेचुरल ग्लाे ला सकता है क्लींजिंग मिल्क, जानिए इसके फायदे

त्वचा की अंदरूनी सफाई कर स्किन पर नेचुरल ग्लो लाना चाहती हैं, तो रोजाना क्लींजिंग मिल्क जरूर अप्लाई करें। यह बाहर की धूल, मिट्टी और हवा से आपकी स्किन को ड्राई होने से बचाता है। साथ ही त्वचा को जवां भी बनाए रखता है।

cleansing milk ke bahut hain fayde
क्लींजिंग मिल्क सफाई के साथ-साथ बढती उम्र की त्वचा की देखभाल में भी प्रभावी देखा गया। चित्र : एडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Updated on: 16 January 2023, 16:56 pm IST
  • 125
इस खबर को सुनें

हमलोग अपने बचपन में राजकुमारियों, परियों की कहानियां जरूर पढ़ते और सुनते हैं। उनके बारे में यह बात भी निश्चित तौर पर बताई जाती है। उनके बारे में बताया जाता है कि वे दूध से स्नान किया करती थीं। इसलिए उनकी त्वचा चमकदार और मुलायम है। यहां दूध से स्नान का मतलब त्वचा की साफ़-सफाई से है। बचपन में मां भी दूध से चेहरा साफ़ करने के लिए कहा करती थी। इसलिए स्किन पर दूध के अच्छे प्रभाव पर खूब रिसर्च किये गये। आइये देखते हैं क्लींजिंग मिल्क स्किन के लिए कितना कारगर (Cleansing Milk Benefits) है।

क्लींजिंग मिल्क पर शोध (Cleansing Milk Research)

इक्वाडोर केंद्रीय विश्वविद्यालय की शोधकर्ता मार्सेलो रियोस और इंडो-अमेरिका टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी की शोधकर्ता पॉलिना पोंस ने क्लींजिंग मिल्क से त्वचा की सफाई और देखभाल पर रिसर्च किया। शोध में इस बात पर जोर दिया गया कि प्रदूषण, सूर्य की किरणें और उम्र ढलने का भी प्रभाव स्किन पर पड़ता है। मेकअप का उपयोग करने वाली महिलाओं की स्किन भी प्रभावित होती है। इसलिए स्किन की साफ़-सफाई और त्वचा की देखभाल पर विशेष ध्यान देना जरूरी है। फिर ऐसा कौन सा प्रोडक्ट है, जो स्किन की देखभाल के साथ स्किन की गहराई तक सफाई भी करे।

बढ़ती उम्र (AGING) के साथ कितना कारगर है क्लींजिंग मिल्क

शोधकर्ता पॉलिना पोंस ने अपने शोध में यह देखा कि क्लींजिंग मिल्क चेहरे को पूरी तरह से साफ करता है। साथ ही यह देखभाल भी प्रदान करता ((Cleansing Milk Benefits) है। यही कारण है कि ब्यूटी प्रोडक्ट में भी मिल्क का प्रयोग किया जाता है। शोध के लिए 18 से 55 वर्ष के बीच की महिलाओं पर सर्वेक्षण किया गया। यह सफाई के साथ-साथ बढती उम्र की त्वचा की देखभाल में भी प्रभावी देखा गया। यह पाया गया कि ऐसी महिला, जो कभी-कभार मेकअप करती हैं, उनमें भी अच्छा परिणाम देखा गया। इस रिसर्च को रिसर्चगेट में भी शामिल किया गया।

एलर्जिक रिएक्शन नहीं होता है

क्लींजिंग मिल्क बेहद सॉफ्ट होता है। यह एक बेहतरीन स्किन केयर आइटम है। इसके कारण किसी भी प्रकार का एलर्जिक रिएक्शन नहीं होता है। यह दिन भर की गंदगी की अच्छी तरह सफाई करता है।

raat me skin ko saaf karen
क्लींजिंग मिल्क एक बेहतरीन स्किन केयर आइटम है। चित्र: शटरस्टॉक

यदि कॉस्मेटिक्स के प्रयोग के कारण स्किन की सफाई जरूरी है, तो यह अच्छी तरह सफाई भी कर देता है। शोध बताते हैं कि क्लींजिंग मिल्क में किसी भी प्रकार का हार्ड केमिकल नहीं होता है। इसके कारण किसी भी प्रकार की स्किन प्रॉब्लम नहीं हो सकती है। साथ ही त्वचा शुष्क (Dryness) नहीं हो पाती है।

क्या रोज इस्तेमाल किया जा सकता है

स्किन रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी जर्नल के अनुसार, क्लींजिंग मिल्क का इस्तेमाल रोज किया जा सकता है। रोज सुबह क्लींजिंग मिल्क से साफ करने पर स्किन साफ़ और सॉफ्ट हो पाती है। शाम में भी इससे स्किन को साफ़ किया जा सकता है। स्किन को यह हाइड्रेट करने में मदद करता है। यह स्किन को मुलायम बनाए रखने में मदद करते हैं।

दो बार लगा सकती हैं क्लींजिंग मिल्क

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ़ डेर्मेटोलॉजी में प्रकाशित शोध आलेख बताते हैं, यदि आप धूल-मिट्टी वाले स्थान से आ रही हैं, तो संभव है कि एक बार इसे लगाने पर स्किन की सफाई अच्छी तरह नहीं हो पाए।

apni twacha ko achche se saaf karein
क्लीनजिंग मिल्क  का प्रयोग  दिन  में  2 बार किया जा सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

इसलिए इसका प्रयोग 2 बार किया जा सकता है। मेकअप और गंदगी हटाने के बाद दूसरी बार क्लीन्ज़र छिद्रों में गहराई तक जाकर साफ़ करता है गहरी सफाई से रोमछिद्रों से गंदगी दूर हो जाती है। यह पोर्स के नीचे गंदगी जमा होने से रोकता है।

कच्चे दूध के फायदे

न्यूट्रीएंट जर्नल के अनुसार, क्लीनजिंग मिल्क के स्थान पर कच्चा दूध का भी स्किन पर प्रयोग किया जा सकता है। इसमें फैट, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वाटर, और विटामिन ए भी पाया जाता है। यह डेड सेल को हटा देता है। यह मॉइस्चराइजर के रूप में कार्य करता है चेहरे को प्राकृतिक चमक देता है।

यह भी पढ़ें :-डार्क स्पॉट्स और अनइवन स्किन टोन से छुटकारा पाने के लिए अपने नाइट स्किन केयर में करे शामिल ये 2 फेशियल ऑयल

  • 125
लेखक के बारे में
स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें